Miss Tral

News Publisher

यहां भूत बनकर डराती है वार्डन, नियम तोड़ने पर करती है छात्राओं की पिटाई

मेरठ के खरखौदा स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय में पढ़ने वाली नाबालिग छात्राओं ने स्कूल की वार्डन पर गंभीर आरोप लगाए हैं. आरोप है कि स्कूल की वार्डन अपनी किसी मित्र के साथ मिलकर रोजाना रात में छात्राओं के कमरे में भूत बनकर उन्हें डराती है. कुछ नाबालिग छात्राओं ने वार्डन पर भी छेड़छाड़ का आरोप लगाया है. कई छात्राओं ने इसकी लिखित शिकायत की है.

छात्राएं जब इसका विरोध करती हैं तो उन्हें मारा-पीटा जाता है. इस घटना से छात्राओं में दहशत बनी हुई है. कई बार पहले भी शिकायत की गई है लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है. शिकायत करने पर छात्राओं को जान से मारने की धमकी दी जाती है. हिम्मत जुटाकर छात्राओं ने बीएसए और डीएम के नाम चिठ्ठियां लिखकर शिकायत करते हुए सुरक्षा की मांग की है. मंगलवार को छात्राओं ने स्कूल में वार्डन का जमकर घेराव और हंगामा किया.

वहीं, मामला उजागर होने के बाद जिलाधिकारी ने बताया कि इस प्रकरण की जांच बीएसए से कराई जा रही है और शुरुआती जांच में वार्डन को दोषी मानते हुए उन्हें हटा दिया गया है. हालांकि, बच्चियां अभी भी डरी हुई हैं और उन्हें स्कूल में डर लगता है.

बता दें कि खरखौदा ब्लॉक में कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय है जिसमें करीब 100 छात्राएं पढ़ती हैं. बच्चियों ने रात के समय स्कूल के एक गार्ड और वार्डन पूनम भारती और उसके कथित मित्र दारोगा को विद्यालय परिसर में बुलाने और वार्डन पर भूत बनकर डराने की शिकायत छात्रओं ने डीएम और बीएसए से की थी.

छात्राओं ने सहमी जुबान में भूत का सच सामने रख दिया और इस मामले में शिकायत करते हुए डीएम और बीएसए के नाम चिठ्ठी लिखीं. अधिकारियों की जांच में सामने आया कि भूत की कहानी के लिए खुद विद्यालय की वार्डन जिम्मेदार हैं. आरोप है कि कुछ दिन पहले तक खरखौदा थाने में होमगार्ड के एक दारोगा से वार्डन का परिचय है और रात के समय दारोगा वार्डन से मिलने विद्यालय में आता था.

कई बार दारोगा के आने को लेकर भी विवाद हुआ. आरोप है कि वार्डन ने धमकी देकर सभी को चुप करा दिया. छात्राओं ने खाने में दवाई मिलाने, मारपीट करने और वार्डन के कथित साथी द्वारा एक छात्रा के साथ छेड़छाड़ करने जैसे आरोप लगाए हैं. वहीं, वार्डन ने सफाई देते हुए कहा है कि मेरे खिलाफ साजिश की जा रही है. पहले भी इस तरह के आरोप लगाए गए थे. अब विद्यालय की शिक्षिकाएं छात्राओं द्वारा निराधार आरोप लगवा रही हैं.

कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में इस समय जैसा माहौल बना हुआ है. छात्राओं पर इसका क्या असर पड़ेगा? इसके अलावा भूत की कहानी और दरोगा के रात में आने को लेकर भी छात्राओं की सुरक्षा पर सवाल उठ रहे हैं. हलाकि इस घटना के बाद विद्यालय से कुछ छात्राएं जा चुकी हैं.